The Amazing Facts

ग्लोबल वार्मिंग एक बड़ी समस्या | Amazing Facts about Global Warming in hindi

SHARE
, / 646 0

Global Warming

Global Warming in Hindi : ग्लोबल वार्मिंग पूरे संसार में एक बड़ी समस्या बनती जा रही है यह समस्या किसी एक व्यक्ति की या फिर किसी एक देश की नहीं रही बल्कि अब इसने पूरी पृथ्वी को अपनी चपेट में लिया हुआ है। ग्लोबल वार्मिंग वातावरण से सबंधित एक बड़ा मुद्दा है। इसीलिए हर एक को इसे जानने की कोशिश करनी चाहिए।

अगर ग्लोबल वार्मिंग का स्तर इस प्रकार ही बढ़ता गया तो वो दिन दूर नहीं जब पृथ्वी का बुरी तरह विनाश हो जाएगा। आइए हम आपको ग्लोबल वार्मिंग के बारे में कुछ जानकारी देते हैं। ग्लोबल वार्मिंग के बारे में हर एक इंसान को जानना बहुत जरूरी है।

ग्लोबल वार्मिंग का अर्थ है धरती का तापमान बढना। पृथ्वी के तापमान का लगातर बढने का मुख्य कारण है लगातार बढ़ता हुआ प्रदुषण जिसकी वजय से वायुमंडल में कार्बनडाई ऑक्साइड का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा जिसके कारण पृथ्वी का तापमान बढ़ता  है जिसे ग्लोबल वार्मिंग कहते हैं।

जानिए ग्लोबल वार्मिंग बढ़ने के कारण :

  1. लगातार हो रही जंगलों और पेड़ों की कटाई।
  2. लगातार बढ़ रहा फैक्ट्रीओं का धुयाँ जिससे वातावरण में कार्बोन मोनो ऑक्साइड का स्तर बढ़ता है।
  3. कार्बनडाई ऑक्साइड ( ग्रीन हाउस गैस ) गैस का लगातार बढना।
  4. ओजोन परत एक ऐसी परत है यो हमारी सूर्य की खतरनाक किरणों से सुरक्षा करती है परन्तु लगागातर बढ़ रहे प्रदुषण के कारण इस परत को नुक्सान पहुँच रहा है और यह कमज़ोर पड़ रही है। जिसके कारण वायुमंडल विचली हवा में ओक्सिजन की कमी हो रही है।
  5. पेड़ कार्बनडाई ऑक्साइड गैस को खींचते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं और पेड़ों की अँधा- धुंध कटाई के कारण कार्बनडाई ऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण आनेवाले खतरे :

  1. ग्लोबल वार्मिंग के कारण पिछले 25 सालों में धरती का तापमान 3 प्रतिशत तक बढ़ गया है।
  2. ग्लोबल वार्मिंग के कारण जंगलों में आग लगने का खतरा बढ़ जाएगा।
  3. ग्लोबल वार्मिंग के कारण भूचाल और तूफ़ान आने का खतरा बढ़ जाएगा।
  4. ग्लोबल वार्मिंग के कारण ठंडे इलाके भी इसकी चपेट में आ रहे हैं।
  5. ग्लोबल वार्मिंग के कारण तापमान बढ़ेगा और पहाड़ों पर जमी बर्फ़ पिघलने लगेगी जिसके कारण बाढ़ आने का खतरा बढ़ेगा।
  6. ग्लोबल वार्मिंग के कारण समुन्द्र तट पर रहने बाले लोगों को खतरा होगा जिसके कारण समुन्द्र तल बढ़ेगा और बाढ़ आने का खतरा बढ़ जायेगा।
  7. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है के 2045 तक अंटार्टिका  पर जमी बर्फ़ पिघल जाएगी।
  8. ग्लोबल वार्मिंग से पृथ्वी का तापमान बढ़ रहा है जिसके कारण ग्लेशियरों पर जमी बर्फ़ पिघल रही है जिसके कारण समुन्द्रों में पानी का स्तर बढ़ रहा है और  इसके स्तर में बढ़ोतरी होती रहेगी और समुन्द्रों की सतह का पानी बढने से प्रकृतिक तटों को नुक्सान होगा। जिससे कई इलाके बाढ़ के चपेट में आ जाएंगे
  9. ग्लोबल वार्मिंग से गर्मी बढ़ेगी और बारिश में कमी होगी जिसके कारण धरती निचला पानी गहरा होता जायेगा और पानी की समस्या होगी।
  10. कार्बनडाई ऑक्साइड गैस के लगातार बढने के कारण कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी के बढने का खतरा बढ़ेगा।
  11. पिछले 100 सालों से अंटार्टिका का तापमान धरती के तापमान से दो गुना ज्यादा बढ़ रहा है।

ग्लोबल वार्मिंग को कम करने का उपाय :

ग्लोबल वार्मिंग से होने बाले दुष प्रभावों से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए क्योंकि पेड़ ही कार्बनडाई ऑक्साइड गैस को खींचतें हैं और ऑक्सीजन छोड़तें हैं। इसीलिए दोस्तों कम से कम एक पेड़ जरूर लगाएं और प्रदुषण को फैलने से रोंके। तभी ही ग्लोबल वार्मिंग को कम किया जा सकता है।

 

एफिल टावर के बारे में कुछ रोचक जानकारियाँ

जानिए एफिल टावर का निर्माण कैसे हुआ

 

आज का भारत’ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें  Facebook और Google+ पर ज्वॉइन  करें…

Leave A Reply

Your email address will not be published.

PASSWORD RESET

LOG IN