The Amazing Facts

, / 3135 0

मराठा सेना में शामिल थे कई मुगल सरदार, छत्रपति के लिए लड़ी लड़ाई

SHARE

पुणे: ग्रेट मराठा साम्राज्य के विस्तार में छत्रपति शिवाजी महाराज का साथ कई मुगल सरदारों ने दिया। 19 फरवरी को शिवाजी महाराज की जयंती है। इस मौके पर  आपको उन मुगल सरदारों के बारे में बताने जा रहे है, जिन्होंने मराठा सैनिकों के साथ मिलकर मुगलों के खिलाफ लड़ाइयां लड़ी। मराठा सेना में थे 700 मुगल.

 

shivaji 2

  • बीजापुर के तानाशाह शासक आदिल शाह के जुल्मों से तंग आकर 700 मुगल सैनिक और सरदार शिवाजी महाराज की सेना में शामिल हो गए थे।
  • इन सरदारों को मराठा सेना की ट्रेनिंग के लिए, तोपखाने, नेवल बेस और कई अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर नियुक्त किया गया था।
  • इनके पास से प्राप्त जानकारी का इस्तेमाल मुगलों के खिलाफ हुई लड़ाई के दौरान किया गया।
  • इन सैनिकों में से कई ने शिवाजी महाराज के लिए युद्ध में अपने प्राण तक न्योछावर कर दिए।

 

नौसेना का प्रमुख बनाया :

 

shivaji-aaj ka bharat

  • छत्रपति का साम्राज्य भारत के पश्चिम समुद्री तट तक फैला था।
  • समुद्री मार्ग से होनेवाले विदेशी आक्रमण को रोकने के लिए शिवाजी महाराज ने सशक्त नौसेना बनाई और इसका प्रमुख मुगल सरदार दौलत खान को नियुक्त किया।
  • दौलत खान ने कई मुगल सैनिकों और मछुआरे को अपने साथ शामिल कर कई साल तक उनके नेवल बेस की रक्षा की।
  • शिवाजी महाराज के तीन बॉडीगार्ड्स (अंगरक्षक) में एक सिद्धि इब्राहिम भी था।
  • अफजल खान संग हुई शिवाजी महाराज की मुलाकात के दौरान सिद्धि इब्राहिम भी उनके साथ मौजूद था।
  • शिवाजी महाराज की सेना के तोपखाना विभाग को मुस्लिम सरदार इब्राहिम खान संभालता था।
  • इब्राहिम ने कई मुस्लिम सैनिकों के साथ कई युद्धों में मराठा सेना shivaji-5का नेतृत्व किया।
  • मराठा सेना में शामिल सिद्धि हिलाल ने सरदार प्रतापराव गुजर और 6 अन्य सरदारों के साथ मुगल सेना पर हमला किया था।
  • इतिहासकार बताते हैं कि बहलोल खान नामक सरदार को जिंदा पकड़ने के प्रयास में वह मारे गए।
  • सिद्धि हिलाल की मौत के बाद उनका बेटा सिद्धि वाहवाह मराठा सेना में शामिल हुआ।
  • वाहवाह ने आदिल शाह की सेना के खिलाफ लड़ाई लड़ी और गंभीर रूप से घायल हुआ था।
  • शिवाजी महाराज के वकील का नाम काजी हैदर था।
  • छत्रपति ने आगे उन्हें अपना निजी सचिव नियुक्त किया।
  • मुगल सरदार मदारी मेहतर ने शिवाजी महाराज को आगरा के किले से निकलने में सहायता की थी।
  • जिसके बाद शिवाजी महाराज ने उन्हें अपना खास सरदार नियुक्त किया था।

 

इनके अलावा शिवाजी महाराज की सेना में नुर खान बेग, हुसैन खान मियानी, सिद्धि मिस्त्री, सुल्तान खान और दाउद खान जैसे वीर सरदार थे।

Source : bhaskar

Leave A Reply

Your email address will not be published.

PASSWORD RESET

LOG IN