The Amazing Facts

, / 4292 1

चंदा कोचर की जीवनी | Chanda Kochhar Biography in Hindi

SHARE
Chanda Kochhar
Chanda Kochhar
नाम चंदा दीपक कोचर
जन्म नवंबर 17, 1961
जन्मस्थान जोधपुर, राजस्थान
पिता रूपचंद अडवाणी
पति दीपक कोचर
पुत्र अर्जुन कोचर
पुत्री आरती कोचर
शिक्षा मैनेजमेंट में मास्टर डिग्री
व्यवसायCEO ऑफ़ ICICI बैंक
नागरिकता/राष्ट्रीयताभारतीय

 

भारतीय बिज़नेस वीमेन चंदा कोचर (Chanda Kochhar Biography in Hindi) :

चंदा कोचर ICICI बैंक की चीफ एक्ज्युकेटीवे ऑफिसर यानी की CEO और मेनेजिंग डायरेक्टर यानी की MD थी। साथ में ICICI बैंक के कॉर्पोरेट सेंटर की चीफ ऑफिसर भी चंदा ही थी। ICICI बैंक भारत देश की सर्वश्रेष्ट प्राइवेट बैंक में से एक गिनी जाती है, और HDFC बैंक के बाद देश की दूसरी सबसे बड़ी बैंक है। Business Women Of Chanda Kochhar

 

प्रारभिक जीवन (Chanda Kochhar Early Life) :

चंदा कोचर का जन्म 17 नवम्बर, 1961 को जोधपुर, राजस्थान में एक सामान्य परिवार में हुआ था। उनका बचपन राजस्थान के जयपुर में गुजरा। चंदा के विवाह के पहले का नाम चंदा अडवाणी था। चंदा के पिता का नाम रूपचंद आडवाणी था। Chanda Kochhar Biography in Hindi

 

शिक्षा (Chanda Kochhar Education) :

चंदा ने शुरुआती शिक्षा जयपुर के ‘सेंट एंजेला सोफिया’ स्कूल से प्राप्त की है, इसके बाद चंदा मुंबई चली गयी, मुंबई जाकर उन्होंने ‘जय हिन्द कॉलेज’ से BA की डिग्री हासिल कर ली, 1982 में बैचलर के बाद चंदा इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICWAI) में एकाउंटिंग का अध्ययन किया। बाद में, उन्होंने मुंबई के बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से मैनेजमेंट में MBA की डिग्री हासिल की। Chanda Kochhar Biography in Hindi

 

निजी जीवन (Chanda Kochhar Married Life) :

एकदिन दीपक कोचर ने चंदा अडवाणी से डायरेक्ट विवाह का ही प्रस्ताव रखा, इस प्रस्ताव को चंदा ने स्वीकार कर लिया। और बाद में इन दोनों जोड़े शादी बंधन में बंध गए। दीपक कोचर एक बड़े बिज़नेसमेन है जो, विंड एनर्जी की एक कंपनी चलाते है। उनके विवाह के बाद इन जोड़े को दो बच्चे हुए, जिसमे एक लड़के का नाम अर्जुन और एक लड़की का नाम आरती है।

 

बिजनेस करियर (Chanda Kochhar Career) :

1984 में चंदा ने ‘इंडस्ट्रियल क्रेडिट ऐण्ड निवेश कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया’ में बतौर मास्टर मैनेजमेंट ट्रेनर के रूप में हिस्सा लिया। ICICI में अपने शुरूआती सालो में, उनको को पोशाक, पेपर और सीमेंट जैसे प्रोजेक्ट्स में काम किया।

बाद में 1993 में चंदा कोचर एक कोर टीम के लिए ICICI बैंक में काम करना शुरू किया। 1996 में चंदा अध्यक्षता में ICICI के लिए बिजली के क्षेत्र में बिज़नेस विशेषज्ञ समर्पित बनाने के हेतु से दूरसंचार और परिवहन विभाग को संभाला।

1998 में चंदा को प्रधान व्यवस्थापक यानि की जनरल मेनेजर के रूप में प्रमोशन कर दिया गया। 1999 में उन्होंने रणनीतिक और ICICI के ई कॉमर्स विभाग संभाला। Chanda Kochhar Biography in Hindi

2000 में उन्ही के नेतृत्व में ICICI बैंक में रिटेल व्यापार शुरू किया गया, और अगले पांच वर्षों में भारत में सबसे बड़ा रिटेल वित्त व्यवस्था करने वाला उभरा। 2006 में चंदा कोचर ICICI बैंक की डेप्युटी मैनेजर डायरेक्टर के रूप में चुना गया। और वो कॉर्पोरेट और ICICI बैंक के रिटेल बैंकिंग व्यवसाय में बहोत कामयाब रहे।

बाद में 2006 अक्टूबर से लेकर अक्टूबर 2007 तक चंदा ने इंटरनेशनल और ICICI बैंक के कॉर्पोरेट कारोबार को बहोत अच्छी तहर से संभाला।

बाद में 2007 अक्टूबर से लेकर अप्रैल 2009 तक, चंदा कोचर भी बैंक के चीफ फाइनेंस ऑफिसर (CFO), संयुक्त प्रबंध के डायरेक्टर।

2009 में ही ICICI बैंक के लिए भारत में होने वाले सभी संस्था को संभालने के लिए चंदा को नियुक्त किया गया। और चंदा को ICICI बैंक का मैनेजिंग डायरेक्टर यानी की MD और चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर यानी की CEO के लिए नियुक्त किया गया।

बाद में इसके उपरांत चंदा को जापान-इंडिया बिजनेस लीडर्स फोरम का सभ्य भी नियुक्त किया गया। बिजनेस के तौर पर चंदा को रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी से तुलना की जाती है।

बाद में 4 अक्टूबर 2018 के दिन चंदा कोचर ने ICICI से निवृत हो गई और हाल में ICICI बैंक के चैयरमेन के रूप में गिरीश चंद्र चतुर्वेदी को नियुक्त किया गया है।

 

विवाद (Chanda Kochhar Controversy) :

केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो द्वारा ICICI बैंक के द्वारा वीडियोकॉन कंपनी को लोन देने के बारे में पूछताछ करने में लगी है, केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो रिपोर्ट के अनुसार इस मामले में बैंक के अधिकारिओ के नाम सामने आये है, जो अधिकारिओ 2012 में वीडियोकॉन कंपनी को ऋण देने की प्रक्रिया में शामिल थे।

इस मामले में ICICI बैंक की चीफ एक्ज्युकेटीवे ऑफिसर चंदा कोचर के पति और वीडियोकॉन के मालिक दीपक कोचर शामिल हैं, लेकिन चंदा कोचर का कहीं भी नाम सम्मलित नहीं हुआ है। फ़िलहाल ICICI बैंक ने वीडियोकॉन का कर्ज खाता 2017 में ही नॉन परफार्मिंग एसेट करार दे दिया था। और इसके साथ ही वीडियोकॉन को पैसा मिलना बंद कर दिया गया।

 

 पुरस्कार और सम्मान (Chanda Kochhar The Honors) :

  • 2005 में चंदा को ‘बिजनेस वीमेन ऑफ द ईयर’ अवार्ड्स से सम्मानित किया गया।
  • 2006 में चंदा को ‘राइजिंग स्टार अवार्ड’ दिया गया था।
  • 2002 से 2010 तक लगातार आठ वर्षों तक ’30 सबसे पावरफुल महिला’ की सूची में जगह मिली।
  • 2011 में भारत सरकार के उच्चतम पुरस्कार ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया गया।
  • 2014 में फॉर्च्यून मैगजीन ने ‘एशिया की सबसे ताकतवर 25 महिलाओं की सूची में दूसरा स्थान मिला।
  • 2015 में ‘100 सबसे इन्फ्लुएंसियल लोगों’ की सूची में चंदा को स्थान मिला।
  • 2017 में बिजनेस वर्ल्ड मैगजीन की ‘बीडब्ल्यू की सबसे प्रभावशाली महिला’ सूची में हमेशा सम्मिलित महिला नेता का सम्मान मिला।

_

कहानी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें…

One Comment

Leave A Reply