The Amazing Facts

फिरोज गांधी की जीवनी | Feroze Gandhi Biography in Hindi

SHARE
, / 1259 0
Feroze Gandhi
Feroze Gandhi
पूरा नामफिरोज जहांगीर गांधी
जन्म12 सितंबर 1912
जन्मस्थानमुंबई, महाराष्ट्र
पिताफरदून जहांगीर घांडी
मातारतिमाई कमिसारीत
पत्नीइंदिरा गांधी
पुत्रराजीव गांधी, संजय गांधी
व्यवसाय भारतीय पत्रकार, राजनीतिज्ञ
राष्ट्रीयताब्रिटिश राज, भारतीय

 

राजनीतिज्ञ फिरोज गांधी (Feroze Gandhi Biography in Hindi) :

फिरोज गांधी एक भारतीय पत्रकार और राजनीतिज्ञ थे। वह प्रांतीय संसद के सदस्य थे और बाद में लोकसभा के सदस्य के रूप में कार्य किया। उन्हें समाचार पत्रों नवजीवन ‘और’ नेशनल हेराल्ड के प्रकाशन के लिए भी याद किया जाता है। बाद में उन्होंने इंदिरा गांधी से शादी की थी, जो भारत के आज़ादी के बाद भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री बनी थी। Great Politician Feroze Gandhi

 

प्रारंभिक जीवन (Feroze Gandhi Early Life) :

फिरोज गांधी का जन्म 12th सितंबर 1912 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था। फिरोज एक पारसी धर्म से संबंध रखते थे। उनका पूरा नाम  फिरोज जहांगीर गांधी था। फिरोज गांधी कांग्रेस राजनीतिज्ञ दल के सदस्य और लोकसभा के सदस्य भी रह चुके है। फिरोज गांधी की माँ का नाम रतिमाई गांधी और उनके पिता का नाम जहांगीर गांधी था। उनके पिता एक अच्छे इंजीनियर थे।

 

शिक्षा (Feroze Gandhi Education) :

फिरोज गांधी की पढाई 1920 के शुरू में अपने पिता की मृत्यु के बाद रुक गई थी। फिरोज गांधी और उनकी माता रतिमाई गांधी अपनी अविवाहित आंटी के साथ रहने के लिए अलाहाबाद चले गये। उनकी आंटी डफरिन हॉस्पिटल में एक सर्जन डॉक्टर थी, बाद में माहौल थोड़ा संत होने के बाद फिरोज ने विद्या मंदिर हाई स्कूल से अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की और बाद में एविंग क्रिस्चियन कॉलेज से स्नातक की पढाई भी पूरी की थी। Feroze Gandhi Biography in Hindi

 

निजी जीवन (Feroze Gandhi Married Life) :

फिरोज गांधी ने 1942 में इंदिरा गांधी से विवाह किया था। यह विवाह इंदिरा गांधी के पिता नेहरू गांधी की खुशी के खिलाफ हुआ था। उस समय इन दोनों की प्रेम कहानी बहुत ज्यादा विवाद में रही थी। फिरोज गांधी और इंदिरा गांधी की मुलाकात सन 1930 में हुई थी। इस समय इंदिरा गांधी की मां कमला गांधी एक कॉलेज के सामने एक मंदिर में प्रदक्षिणा कर रही थी। प्रदक्षिणा करते वक्त इन्हें चक्कर आ गया, और तब फिरोज ने कमला गांधी को मंदिर से उठाकर सुरक्षित स्थान पर ले गए। उनकी थोड़ी देखरेख और सेवा की, इसके घटना के बाद फिरोज उनके स्वास्थ्य का हालचाल पूछने के लिए अक्सर उनके घर पर जाया करते थे।

इसी दौरान इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी की बिच नजदीकियां बढ़ती गई, और जब वह इलाहाबाद में रहने लगे तो आये दिन उनके घर जाया करते थे, और फिर इनकी मुलाकाते भी बढ़ती चली गई, और महात्मा गांधी से हस्तक्षेप के बाद इन दोनों ने इलाहाबाद में शादी कर ली।

 

करियर (Feroze Gandhi Career):

1930 में कांग्रेस के स्वतंत्रता सेनानियों की सेना का निर्माण किया गया। बाद में, फिरोज गांधी ने भारतीय स्वतंत्रता अभियान में शामिल होने के लिए उन्होंने पढाई छोड़ दी। बाद में वे भारत छोडो अभियान में शामिल होने के बाद से काफी प्रेरित हो गए थे फिर फिरोज ने अपने उपनाम को बदलकर “घंडी” से “गांधी” रखा दिया। बाद में 1930 में लाल बहादुर शास्त्री भारत के दुसरे प्रधानमंत्री बने और उस समय वे अलाहाबाद जिला कांग्रेस राजनितिक दल के प्रमुख थे। Feroze Gandhi Biography in Hindi

फिरोज गांधी उत्तर प्रदेश के कृषि पर कोई लगान ना लगाने वाले अभियान में शामिल हो गये और इस समय जवाहरलाल नेहरु के नजदीक रहकर काम करने के लिए उन्हें 1932 और 1933 के बिच में उन्हें दो बार जेल जाना पड़ा था। Feroze Gandhi Biography in Hindi

इंदिरा गाँधी के पिता जवाहरलाल नेहरु पहले से ही इस विवाह के खिलाफ थे, और नेहरु ने उन दोनों को इस बाबत पर महात्मा गांधी से बात करने के लिए भी कहा लेकिन इसके बावजूद जवाहरलाल नेहरु के हाँथो असफलता ही लगी। बाद में भारत छोडो आंदोलन के समय उनके विवाह के 6 महीने बाद ही फिरोज गांधी अगस्त 1942 में गिरफ्तार कर के जेल में डाल दिया गया।

फिरोज गांधी को अलाहाबाद के नैनी सेंट्रल जेल में 1 साल की जेल की सजा सुनाई गयी थी। सजा पूरी होने के बाद वापस घर आकर उन्होंने अगले 5 वर्ष उन्होंने आराम से पसर किये। फिरोज गांधी को 1944 में एक बेटे राजीव गांधी और 1946 में उनके दुसरे बेटे संजय गांधी का जन्म हुआ था। फिर आज़ादी के बाद, जवाहरलाल नेहरु भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। इसके बाद फिरोज गांधी और इंदिरा गांधी भी अपने दो बेटो के साथ अलाहाबाद रहने आ गए, और वहा फिरोज गांधी दी नेशनल हेराल्ड अखबार में मैनेजिंग डायरेक्टर की हैसियत से काम करने लगे।

इस अखबार की स्थापना उनके जवाहरला नेहरु ने की थी। 1950 प्रांतीय संसद का सदस्य बनने के बाद फिरोज ने 1952 में उत्तर प्रदेश के रायबरेली निर्वाचन क्षेत्र से आज़ाद भारत का पहला जनरल चुनाव जीता। इसके बाद इंदिरा भी दिल्ली से आ गयी, और उनके लिए अभियान आयोजक का काम करने लगी। इसके तुरंत बाद फिरोज जल्द ही भारतीय राजकारण के अद्भुत भाग बन चुके थे। इसके बाद वे लगातार जवाहरलाल नेहरु सरकार की आलोचना करते थे, और वे हमेसा भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी आवाज उठाते थे।

भारत की आज़ादी के बाद के कुछ साल में ही बहुत से भारतीय व्यापारी लोगो ने राजनीतिक नेताओ के साथ अपने संबंध अच्छे बना दिए थे और इसके बाद वे सब वित्तीय अनियमितता भी शुरू कर ने लगे थे। बाद में फिरोज ने दिसम्बर, 1955 में एक उजागर किये गये केस में,फिरोज ने बताया की एक बैंक के अध्यक्ष राम किशन और एक विमा कंपनी, गैरकानूनी तरीको से अन्य कंपनियों और आम लोगो के पैसो का इस्तमाल अपनी कंपनी के मुनाफे के लिए करते थे।

फिर 1957 में रायबरेली निर्वाचन क्षेत्र से फिर से वे चुने गये। फ़िरोज़ ने 1958 में संसद भवन में हरिदास मुंधरा के LIC बीमा कंपनी के स्कैंडल में शामिल होने का विरोध प्रगट किया था। इससे जवाहरलाल नेहरु की सरकार को बहुत बड़ा झटका लगा,और इसके चलते फाइनेंस मिनिस्टर टी.टी. कृष्णामचारी को अपने पद से इस्तीफा भी देना पड़ा था। उस समय सोशल मीडिया और अख़बार ने भी अपने चैनलों के माध्यम से फिरोज गाँधी को काफी लोकप्रिय बना दिया गया था। Feroze Gandhi Biography in Hindi

इसके आलावा फिरोज ने भारत में बहुत से राष्ट्रिय अभियानों की शुरुवात भी की, जब रेलवे इंफीन की तुलना में टाटा इंजिनियर कंपनी और लोकोमोटिव कंपनी (टेल्को) जापानी रेलवे इंजन की तुलना में दोगुने पैसे वसूलती थी, तब उन्होंने इन कंपनियों के राष्ट्रीकरण का सोचा। इस कारन से पारसी समुदाय में काफी हलचल मच गयी थी, क्योकि टाटा कंपनी के मालिक भी पारसी ही थे। इसके बाद उन्होंने बहुत से मुद्दों पर लगातार सरकार को चुनौती देना शुरू किया, और इससे बहुत से राजनीतिक दलों में उन्होंने अपना अच्छा व्यक्तित्व बना लिया था।

 

मृत्यु (Feroze Gandhi Death) :

फिरोज गांधी को 1960 में दूसरा दिल का दोहरा आने के बाद दिल्ली के विलिंगडॉन हॉस्पिटल में मृत्यु हो गयी। अलाहाबाद के पारसी कब्रिस्तान में ही उनका अंतिम संस्कार किया गया।

 

_

कहानी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें…

Leave A Reply