The Amazing Facts

लक्ष्मी मित्तल की जीवनी | Lakshmi Mittal Biography in Hindi

SHARE
, / 856 0
Lakshmi Mittal Biography In Hindi
Lakshmi Mittal
पूरा नाम लक्ष्मी निवास मित्तल
जन्म          15 जून 1950
जन्मस्थान  राजगढ़, राजस्थान
पिता           मोहन मित्तल
माता          गीता मित्तल
पत्नी उषा मित्तल
बचे आदित्य और वनिशा मित्तल
व्यवसाय CEO- आर्सेलर मित्तल
पुरस्कार पद्म विभूषण
नागरिकता/राष्ट्रीयता भारतीय

 

भारतीय बिजनेसमैन लक्ष्मी मित्तल (Lakshmi Mittal Biography in Hindi) :

लक्ष्मी मित्तल एक भारतीय उद्योगपति और दुनिया के सबसे बड़े स्टील उत्पादक कंपनी ‘आर्सेलर मित्तल’ के सीईओ और चेयरमैन हैं। हालांकि वे यूनाइटेड किंगडम में रहते हैं। पर उन्होंने भारत की नागरिकता नहीं छोड़ी है। 2008 से लेकर वे गोल्डमैन सैक्स के ‘बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स’ के सदस्य हैं। 2011 में फोर्ब्स ने उन्हें विश्व का छठा सबसे अमीर व्यक्ति माना था। Indian Businessman Lakshmi Mittal

 

प्रारंभिक जीवन (Lakshmi Mittal Early Life) :

लक्ष्मी मित्तल का जन्म 2 सितंबर, 1950 को राजस्थान के चुरू जिले की राजगढ़ तहसील में हुआ था। उनके पिता का नाम मोहन लाल मित्तल था। उनके पिता का इस्पात का व्यवसाय था, लक्ष्मी मित्तल संयुक्त परिवार में पैदा हुए थे। और बाद में इनका परिवार राजस्थान को छोड़कर कोलकाता में जा बसा। उनके के दो भाई प्रमोद मित्तल और विनोद मित्तल हैं। Lakshmi Mittal Biography in Hindi

 

शिक्षा (Lakshmi Mittal Education) :

लक्ष्मी मित्तल ने 1957 से 1964 तक श्री दौलतराम नोपानी विद्यालय से शिक्षा ग्रहण की, उन्होंने कोलकाता के सेंट जेविएर्स कॉलेज (कोलकाता विश्वविद्यालय से सम्बद्ध) से वाणिज्य में बिजनेस ऐंड अकाउंटिंग में गैजुएशन की। Lakshmi Mittal Biography in Hindi

 

बिजनेस करियर (Lakshmi Mittal Business Career) :

उन्होंने अपना स्टील करियर इंडोनेसिया में किया जहाँ उन्होंने 1976 में 26 वर्ष की उम्र में इस्पात इंटरनेशनल कंपनी की स्थापना की और पहला स्टील प्लांट लगाया। 1989 में उन्होंने त्रिनिनाद में काम शुरु कियाजिससे उनकी कंपनी अंतराष्ट्रीय कंपनी बन गई। 2004 में इसका विलय मित्तल की अन्य कम्पनियों में हुआ, और ‘मित्तल स्टील कंपनी‘ का गठन हुआ।

मित्तल स्टील कंपनी के आर्सेलोर में विलय के बाद गठित ‘आर्सेलोर मित्तल‘ विश्व की सबसे बड़ी स्टील कंपनी है।और अकेले ही संसार के 10 प्रतिशत स्टील कंपनी का उत्पादन करती है। अंतराष्टीय स्तर पर बड़े खिलाडी बनने के लिए लक्ष्मी मित्तल ने कनाडा और जर्मनी की स्टील कंपनियों को खरीदा। फिर कजाकिस्तान की और मुड़े और वहां 400 मिलियन डोलर में कार्मेट स्टील वर्क्स खरीद ली। इस एक निवेश ने उन्हें अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचा दिया। Founder of ArcelorMittal

1992 में मित्तल ने मेक्सिको की तीसरी सबसे बड़ी स्टील मील सिबाल्सा को 22 करोड़ डॉलर्स में खरीदा। मेक्सिकन सरकार ने इस मील को दस साल पहले 2 अरब डॉलर में बनाया था। लेकिन दस साल के भीतर ही यह असाध्य रूप से बीमार दिखने लगी। और इस मित्तल ने इसे ठीक करने का बीड़ा उठाया, और जल्द ही इसका उत्पादन कई गुना बडा दिया। बीमार मिलो को सस्ते में खरीद कर उन्हें मुनाफे में लोटने की नीति मित्तल के बड़े काम आई। Lakshmi Mittal CEO of ArcelorMittal

 

शिक्षा के क्षेत्र में (Lakshmi Mittal on Education Field) :

2003 में लक्ष्मी मित्तल और उषा मित्तल फाउंडेशन ने राजस्थान सरकार के साथ मिलकर जयपुर में ‘एल.एन.एम. इंस्टिट्यूट ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी’ की स्थापना की। यह एक स्वायत्त और लाभ-निरपेक्ष संस्थान है। लक्ष्मी निवास मित्तल फाउंडेशन ने एस.एन.डी.टी विमेंस यूनिवर्सिटी के ‘इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी फॉर वीमेन’ को चंदे में एक बड़ी धन-राशि दी। Lakshmi Mittal Biography in Hindi

 

स्वास्थ्य के क्षेत्र में (Lakshmi Mittal on Health Field) :

जिसके बाद संस्थान का नाम बदलकर ‘उषा मित्तल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी’ कर दिया गया। लक्ष्मी मित्तल ने 2008 में लन्दन स्थित ‘ग्रेट ओरमोंड स्ट्रीट हॉस्पिटल’ को करीब 1.5 करोड़ ब्रिटिश पौंड का दान दिया। इस चंदे से अस्पताल में एक नए स्वास्थ्य सुविधा केंद्र की स्थापना हुई, जिसका नाम “मित्तल चिल्ड्रेन्स” मेडिकल सेंटर है। Lakshmi Mittal Biography in Hindi

 

निजी जीवन (Lakshmi Mittal Married Life) :

बाद में लक्ष्मी मित्तल ने उषा मित्तल से शादी कर ली, और इस दोनों को एक लड़का आदित्य मित्तल और लड़की वनिशा मित्तल हुए, इन दोनों बिज़नेस से जुड़े हुए है। लक्ष्मी मित्तल का निवास लन्दन स्थित 18-19 केनिंग्सटन पैलेस गार्डन्स है। यह संपत्ति उन्होंने फार्मूला वन के मालिक बर्नी एक्लेस्टोन से 2004 में लगभग 12 करोड़ अमेरिकी डॉलर में ख़रीदा था। 

2008 में उन्होंने अपनी पुत्री वनीशा के विवाह में भी लन्दन स्थित एक मकान उपहार में दिया जिसकी कीमत थी लगभग 7 करोड़ ब्रिटिश पौण्ड। 2005 में उन्होंने भारत की राजधानी नई दिल्ली स्थित ए.पी.जे.अब्दुल कलाम मार्ग पर एक संपत्ति खरीदी जिसकी कीमत थी 3 करोड़ अमरीकी डॉलर।

 

पुरस्कार और सम्मान (Lakshmi Mittal The Honors) :

  • 1996 में न्यू स्टील द्वारा ‘स्टील मकर ऑफ़ द इयर’
  • 2004 में वाल स्ट्रीट जर्नल द्वारा ‘इंटरप्रेन्योर ऑफ़ द इयर’ चुने गए
  • 2004 में फ़ोर्ब्स पत्रिका द्वारा ‘यूरोपियन बिजनेसमैन ऑफ़ द इयर’
  • 2004 में अमेरिकन मेटल मार्किट द्वारा ‘आठवां विल्ली कोर्फ स्टील विज़न अवार्ड दिया गया
  • 2007 में किंग्स कॉलेज लन्दन द्वारा फ़ेलोशिप प्रदान की गई
  • 2008 में भारत सरकार ने ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया
  • 2008 में फोर्ब्स पत्रिका द्वारा ‘लाइफटाइम अचीवमेंट’ पुरस्कार दिया गया

_

कहानी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें…

Leave A Reply