The Amazing Facts

स्टीफन हॉकिंग की जीवनी | Stephen Hawking Biography in Hindi

SHARE
, / 2140 0
Stephen Hawking
Stephen Hawking
नामस्टीफन विलियम हॉकिंग
जन्म 8 जनवरी 1942
जन्मस्थान ऑक्सफ़ोर्ड, इंग्लैंड
पिताफ्रैंक हॉकिंग
माताइसोबेल हॉकिंग
पत्नीऐलेन मेसन
पुत्रटिमोथी हॉकिंग, रॉबर्ट हॉकिंग
पुत्रीलुसी हॉकिंग
व्यवसायसैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी
पुरस्कारराष्ट्रपति पदक
नागरिकताब्रिटिश

 

भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग (Stephen Hawking Biography in Hindi) :

स्टीफन हॉकिंग ब्रिटन के विश्व विख्यात भौतिक विज्ञानी थे। स्टीफन कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में एक सैधांतिक ब्रह्मांड विज्ञान के शोध डिरेक्टर भी थे। उन्होंने ब्लैक होल और बिग थ्योरी की उत्पति में महान कार्य किया है। उनके द्वारा शोधा गया रेडिएशन को आज लोग हॉकिंग रेडिएशन नाम से जनता है। साथ में स्टीफन ने ब्रह्मांड को आसानी से समझने के लिए एक सरल थ्योरी भी डेवलप की थी। Physicist scientist Stephen Hawking 

 

प्रारंभिक जीवन (Stephen Hawking Early Life):

स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8th जनवरी साल 1942 को इंग्लैंड के ऑक्सफ़ोर्ड में हुआ था। उनके पिता का नाम फ्रैंक हॉकिंग था, और वह एक चिकित्सक के व्यवसाय से जुड़े हुए थे। और उनकी माताजी का नाम इसोबेल हॉकिंग था, और वह भी चिकित्सा खोज संस्था में एक सचिव के पद पर कार्यरत थी। स्टीफन के मातापिता नॉर्थ लंदन में रहता था। लेकिन विश्वयुद्ध के चलते कुछ दिक्कत के कारण वह लंदन में रहने लगे।

 

शिक्षा (Stephen Hawking Education) :

स्टीफन के बचपन के दिन उनके मातापिता सेंट अल्बान में रहने के लिए आ गए और इसी शहर के एक स्कूल में उनकी प्रारंभिक शिक्षा शुरु हुई। अपनी प्रारंभिक शिक्षा खत्म करने के बाद स्टीफन ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया और इस यूनिवर्सिटी में उन्होंने भौतिकीशास्त्र पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

कुछ समय बाद भौतिकीशास्त्र के पहली वर्ग में डिग्री प्राप्त की। और इसके बाद आगे की पठाई के लिए उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में एडमिशन लिया। साल 1962 में उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ एप्लाइड मैथेमैटिक्स एंड थ्योरिटिकल फिजिकल में ब्रह्मांड विज्ञान पर खोज करना शुरू किया। Stephen Hawking Biography in Hindi

 

1963 में खराब हुई सेहत (Stephen Hawking Health Deteriorated in 1963) :

21 वर्ष की आयु में साल 1963 के बाद में स्टीफन की तबियत धीरे धीरे खराब होती दिखी। उनकी तबियत ख़राब देखकर उनके पिता ने उनको अस्पताल ले गया और सभी जाँच के बाद डॉक्टर को पाया गया की उनको ‘Amiotrophic Lateral Sclerosis’ नामक रोग की बीमारी हुई है। Stephen Hawking was Amyotrophic Lateral Sclerosis

इस बिमारी के चलते डॉक्टर बताया की इस बीमारी का फ़िलहाल कोई उपाय नहीं है। और इस बीमारी के कारन उनका हिस्सा धीरे धीरे कार्य करना बंध कर देगा। उनकी इस बीमारी के समय स्टीफन कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे थे। लेकिन उनकी बीमारी ने उनके पठाई के हौसलों पर असर नहीं होने दिया, और अपनी पढाई पूर्ण की। बाद में उन्होंने साल 1965 में PhD की डिग्री प्राप्त की।

 

शादी (Stephen Hawking Marriage) :

स्टीफन को एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस की भीमारी हुई थी, जिस दिन उनको यह बीमारी की जानकारी हुई उसी दिन उनकी मुलाकात जेन वाइल्ड से हुई थी। और साल 1965 में इन दोनों ने शादी कर ली। स्टीफन के इस बुरे वक्त में भी जेन ने उनका बहोत साथ निभाया और उनका हौसला बढ़ाया। बाद में इन दोनों जोड़े को तीन बच्चे हुए, जिसके नाम रॉबर्ट, लुसी और तीमुथियस है। स्टीफन और जेन की यह शादी 30 साल तक चली। बाद में कुछ दिक्कत के चलते साल 1995 में इन दोनों ने तलाक ले लिया। जेन से तलाक के कुछ समय बाद इसी साल में स्टीफन ने ऐलेन मेसन से शादी कर ली। लेकिन स्टीफन की यह शादी भी 2016 में तूट गई।

 

प्रोफेशनल करियर (Stephen Hawking Career) :

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में से अपनी शिक्षा पूर्ण करने के बाद भी स्टीफन इसी कॉलेज में वह एक शोधकर्ता के रूप में जुड़े रहे। साथ में उन्होंने साल 1972 में DAMTP में एक सहायक शोधकर्ता के रूप में अपना कार्य चालू रखा और इसी समय में उन्होंने अपनी प्रथम पुस्तक ‘द लाज स्केल स्ट्रक्चर ऑफ स्पेस-टाइम’ भी लिखी थी। कुछ साल के बाद साल 1974 में वह रॉयल सोसायटी से जुड़ गया।

वही उन्होंने साल 1975 में DAMTP में गुरुत्वाकर्षण भौतिकी रीडर के लिए कार्य किया और बाद में साल 1977 में वह गुरुत्वाकर्षण भौतिकी के प्राध्यापक के लिए कार्य भी किया। इनके शोधकर्ता कार्य के लिए साल 1979 में उनको कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में ही गणित के प्राध्यापक नियुक्त कर दिया गया। यह पद विश्व में सबसे विख्यात अकादमी का पद माना जाता है और इस जगह पर उन्होंने साल 2006 तक कार्य किया।

 

स्टीफन हॉकिंग की खोज (Stephen Hawking Inventions) :

स्टीफन हॉकिंग ने ब्रह्मांड को पूरी तरह से जानने के लिए उनके साथी रोजर पेनरोस के साथ मिलकर ब्रह्मांड पर खोज करना शुरु कर दिया। कई समय के बाद उनको सफलता मिली और यह साबित किया की ब्रह्मांड के समय से ही अंतरिक्ष और समय की शुरूआत हुई है, और यह ब्लैक होल के अंदर नाश होंगे। Stephen Hawking Biography in Hindi

हॉकिंग ने अल्बर्ट आइंस्टीन का आपेक्षिकता सिद्धांत का उपयोग करके यह निश्चित किया की, ब्लैकहोल पूर्णता से स्थिर नहीं हैं, बल्कि उत्सर्जन प्रसारण करता है। साथ में हॉकिंग ने यह भी साबित किया की ब्रह्मांड की कोई हद नहीं है, साथ में यह भी बताया की ब्रह्मांड की शुरुआत कब हुई और कैसे हुई भी टेक्नोलॉगी और विज्ञान के जरिए निश्चित हो सकता है।

 

स्टीफन हॉकिंग की किताबें (Stephen Hawking Books) :

( 1 ) ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम (Stephen Hawking A brief history of Time) : 1988 में प्रकाशित किताब ‘ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ उनके द्वारा लिखी गई प्रथम किताब थी। यह किताब बिगबैंग और ब्लैक होल पर आधारित थी और तक़रीबंध 40 से ज्यादा भाषाओं में मौजूद है।

( 2 ) द यूनिवर्स इन ए नटशेल (Stephen Hawking The Universe in a Nutshell) : 2001 में प्रकाशित ‘द यूनिवर्स इन ए नटशेल’ उनके द्वारा लिखी गई किताबो में से बेस्ट है और इस कियाब को साल 2002 में एवेंटिस प्राइस ऑफ साइंस बुक्स अवार्ड भी मिला था।

( 3 ) द ग्रैंड डिज़ाइन (Stephen Hawking The Grand Design) : साल 2010 में ‘द ग्रैंड डिज़ाइन’ नाम की किताब का प्रकाशन किया और उनकी पहली किताब के भाती यह इस किताब भी ब्रह्मांड के विषय पर आधारित है। इस किताब हॉकिंग पूरी दिनया में प्रसिद्ध हो गया।

( 4 ) ब्लैक होल और बेबी यूनिवर्स (Stephen Hawking Black Hole and Baby Universe) : 1993 में स्टीफन हॉकिंग द्वारा ‘ब्लैक होल’ पुस्तक का विमोचन किया गया और इस किताब में उनके द्वारा ब्रह्मांड में ब्लैक होल के विषय पर लिखा गया था और ब्लैक होल से जुड़े कई प्रसंगो का वर्णन किया गया है।

( 5 ) जॉर्ज और द बिग बैंग (Stephen Hawking George and the Big Bang) : स्टीफन हॉकिंग ब्रह्मांड और ब्लेक हॉल से विषयो प्र कई किताबो लिखने के बाद साल 2011 में उन्होंने बच्चों के लिए ‘जॉर्ज और द बिग बैंग’ किताब भी लिखी थी।

 

पुरस्कार और सम्मान (Stephen Hawking Awards) :

  • 1966 में उनको एडम्स पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 1976 में मैक्सवेल मॉडल एंड प्राइस मिला।
  • 1978 में अल्बर्ट आइंस्टीन मॉडल मिला।
  • 1985 में हॉकिंग को RAS गोल्ड मेडल मिला।
  • 1988 में उनको वुल्फ पुरस्कार मिला।
  • 1989 में उनको प्रिंस ऑफ अस्टुरियस अवार्ड  से सम्मानित किया गया।
  • 1999 में  नायला पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 2006 में कोप्ले मेडल से सम्मानित किया गया।
  • 2009 में प्रेसिडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम मिला।
  • 2012 में उनको फंडामेंटल फिजिक्स प्राइस मिला।
  • 2015 में बीबीवीए फाउंडेशन फ्रंटियर ऑफ नॉलेज अवार्ड से सम्मानित किया गया।

मृत्यु (Stephen Hawking Death) :

स्टीफन हॉकिंग एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस बीमारी के कारण कई सालो से बीमारी के चलते इन्होंने व्हील चेयर अपना पूरा जीवन लगभग 53 साल के आसपास बिताए थे। उम्र के साथ उनकी दिक्कत भी बढ़ने लगी थी लेकिन वहीं 60 साल की उम्र में 14 मार्च 2018 को एक महान वैज्ञानिक की मृत्यु हो गई। Stephen Hawking Biography in Hindi

_

Leave A Reply