The Amazing Facts

तारक मेहता की जीवनी | Tarak Mehta Biography in Hindi

SHARE
, / 851 0
Tarak Mehta Biography in Hindi
Tarak Mehta
नाम तारक जानुभाई मेहता
जन्म26 दिसंबर, 1929
जन्मस्थानअहमदाबाद
पत्नीइंदु मेहता
पुत्रीईशानी शाह
व्यवसायभारतीय स्तंभकार, लेखक, नाटककार
नागरिकताभारतीय

 

भारतीय लेखक तारक मेहता (Tarak Mehta Biography in Hindi) :

तारक मेहता अपने हास्य लेखन और व्यंग्यकार के लिए जाने जाते थे। उनके लेखन का सफ़र 1971 में गुजराती और मराठी में निकलने वाली साप्ताहिक पत्रिका ‘चित्रलेखा’ से शुरू हुआ था। ‘चित्रलेखा’ में वे ‘दुनिया ने ऊंधा चश्मा’ नाम से कॉलम लिखा करते थे। बाद में इसी कॉलमों को एक किताब की शक़्ल दी गई। 2008 से इसी किताब पर आधारित हिंदी धारावाहिक ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ दर्शकों का मनोरंजन कर रहा है। Indian Writer Tarak Mehta

 

प्रारंभिक जीवन और करियर (Tarak Mehta Early Life and Career) :

तारक मेहता का जन्म 26 दिसंबर 1929 को अहमदाबाद में हुआ था। तारक मेहता अहमदाबाद, गुजरात में रहते थे। तारक मेहता नगर समुदाय से संबंधित थे। मार्च 1971 में विनोदी साप्ताहिक पहली बार चित्रलेखा में दिखाई दिया था। तारक मेहता की शादी इंदु मेहता से हुई। उनकी बेटी का नाम इशानी है, जो अमेरिका में रहती है। Tarak Mehta Marriage

इन वर्षों में उन्होंने 80 पुस्तकों को प्रकाशित किया था, उसमेसें तीन पुस्तकें गुजराती अखबार दिव्य भास्कर में लिखे गए स्तंभों पर आधारित हैं, जबकि बाकी को तारक मेहता का उल्टा चश्मा में कहानियों से संकलित किया गया था। Tarak Mehta Ka Ooltah Chashmah

2008 में भारत में एक लोकप्रिय मनोरंजन चैनल सब टीवी में ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ दिखाया और जल्द ही यह चैनल का प्रमुख शो बन गया और आज भी इस शो चालू है। इस शो में जेठालाल और दया के कैरेक्टर को काफी ज्यादा प्रसिद्धिधि मिली है और इसी दोनों केरेक्टर के कारन तारक मेहता का उल्टा चश्मा आज टी.वी. के धारावाहिक में सबसे ज्यादा एपिसोड वाला शो बन गया है।

 

पुरस्कार (Tarak Mehta Awards) :

2015 में उन्हें भारत का चौथा उच्चतम नागरिक पुरस्कार “पद्म श्री” से सम्मानित किया गया।

2011 में गुजरात साहित्य अकादमी ने उन्हें साहित्य गौरव पुरस्कार।

2017 में रमनलाल नीलकंठ हसया परितोषक (मरणोपरांत) से सम्मानित किया।

 

मृत्यु (Tarak Mehta Death) :

तारक जानुभाई मेहता का 1 मार्च 2017 में 87 साल की उम्र में दीर्घकालिक बीमारी से मृत्यु हो गई। उनके परिवार ने चिकित्सा अनुसंधान के लिए अपने शरीर का दान किया था। Tarak Mehta Biography in Hindi

_

कहानी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें…

Leave A Reply