The Amazing Facts

उसैन बोल्ट की जीवनी | Usain Bolt Biography in Hindi

SHARE
, / 1765 0
Usain Bolt
Usain Bolt
नाम उसैन बोल्ट
जन्म  21 अगस्त 1986
जन्मस्थान जमैका
पिता  जेनिफर बोल्ट
माता  वेलेस्ली बोल्ट
व्यवसायओलंपिक एथलीट
राष्ट्रीयता जमैका

 

दुनिया के सबसे तेज धावक “उसैन बोल्ट” (Usain Bolt Biography in Hindi) :

उसैन बोल्ट  विश्व के सबसे तेज धावक है, जो जमैका से ताल्लुक रखते है। बोल्ट के नाम ओलंपिक में तीन बार Gold Medal का रिकार्ड हैं। बोल्ट ने दौड़ में 100 मीटर, 200 मीटर और 400 मीटर की रेस में गोल्ड मैडल जीतने का रिकार्ड बनाया है। ऐसा करने वाले दुनिया के वे पहले व्यक्ति है। World’s fastest runner Of Usain Bolt

 

प्रारंभिक जीवन (Usain Bolt Early Life) :

सेंट लियो उसैन बोल्ट का जन्म 21 अगस्त, 1986 को जमैका का के एक छोटे शहर ट्रेलानी के एक छोटे गांव शेरवुड कंटेंट में हुआ था। अपने माता-पिता जेनिफर और वेलेस्ली बोल्ट, अपने भाई सडीकी और बहन शेरिना के साथ बड़े हुए। उसके माता-पिता इलाके के ग्रामीण क्षेत्र में एक किराने की दुकान चलाते थे। और बोल्ट ने अपना समय अपने भाई के साथ गली में क्रिकेट और फुटबॉल खेलकर बिताया।

बोल्ट को बचपन से क्रिकेट में भी रूचि थी, अगर आज उसैन बोल्ट धावक नहीं होते तो वे क्रिकेट में एक तेज गेंदबाज होते। उसैन पुर्तगाली खिलाड़ी वकार युनुस, सचिन तेंदुलकर और उनके हम वतन क्रिस गेल के ज्यादा फैन हैंबोल्ट निजी जीवन में काफी अनुशासन में रहते हैबोल्ट की इस सफलता के लिये उन्हें 2009 में लौरस वर्ल्ड स्पोर्ट्समैन ऑफ द ईयर से सम्मानित किया गया। Usain Bolt Biography in Hindi

 

उसैन बोल्ट की शिक्षा (Usain Bolt Education) :

उसैन बोल्ट की प्रारंभिक शिक्षा वेल्डनसिया प्राथमिक स्कूल से हुई, यहीं उन्होंने पहली बार 12 साल की उम्र में दौड़ कर ट्रैक एंड फील्ड के लिए अपनी पहली संभावना जाहिर की थी 12 साल की उम्र तक बोल्ट अपने स्कूल में सबसे तेज धावक बन गए थेआगे की पढ़ाई के लिए बोर्ड में विलियम निब मेमोरियल हाई स्कूल में प्रवेश लिया। Usain Bolt Biography in Hindi

इस दौरान बोल्ट का ध्यान रनिंग से हटकर क्रिकेट पर चला गयालेकिन स्कूल के कोच ने उनकी तेजी को देखते हुएउन्हें ट्रैक एंड फील्ड की तरफ ध्यान देने की सलाह दी, इसी बीच बोल्ट ने अपनी क्षमताओं में सुधार करते हुए, 2001 में वार्षिक उच्च प्रतियोगिता में 200m. में 22.4 सेकंड का समय देते हुए रजत पदक जीता

 

करियर (Usain Bolt Career) :

शुरुवाती दिनों में उसैन अपने साथियों की तुलना में लगातार आगे बढ़ते रहने के बाद बोल्ट लंबी कूद में काफी मैडल जीतने लगे, और कहा जाता है, की क्रिकेट खेलते समय भी वे एक तेज गति के गेंदबाज की भूमिका निभाते थे। इस तरह से उन्होंने एक ताज धावक का परिचय दिया। उन्होंने अपना परीक्षण Pablo Mc Neil नामक एक पूर्व धावक से ली थी।

2002 में उन्होंने विश्व जूनियर चैंपियनशिप में भाग लिया, और 200 मीटर में स्वर्ण पदक जीतकर अलग पहचान बनाई, और इससे वे प्रतियोगिता के सबसे कम उम्र के स्वर्ण पदकधारी बन गये। 2004 के CARIFTA खेलों में 19.93 सेकंड समय के साथ 20 सेकेंड श्रेणी में दौड़कर वे पहले जूनियर धावक बन गये, और उन्होंने रॉय मार्टिन के एक सेकेंड के दो दहाई समय में बने विश्व जूनियर रिकार्ड को तोड़ दिया।

2004 तक वे एक पेशेवर धावक बन गये, पर चोटों के कारण पहले 2 सीजन की ज्यादातर स्पर्धाओं में नहीं खेल पाये, लेकिन वह ओलंपिक में 2004 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की स्पर्धाएं पूरी कीं, 2007 में, उन्होंने 200 मीटर जमैकन राष्ट्रीय रिकार्डधारी डॉन क्वैरिज को 19.75 सेंकेंड समय लेकर हराया।  मई 2008 में, बोल्ट ने 9.72 सेकेंड के समय के साथ 100 स्पर्धा में विश्व रिकॉर्ड बनाया। Usain Bolt Biography in Hindi

2008 के बीजिंग ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में 100 मीटर और 200 मीटर दोनो स्पर्धाओं में विश्व रिकॉर्ड कायम किया: 100 मीटर में समय 9.69 था और इस तरह उन्होंने 9.72 समय लेकर अपना ही रिकार्ड तोड़ा और 200 मीटर स्पर्धा में उन्होंने 19.30 सेकेंड लेकर 1996 के अटलांटा ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में माइकल जॉनसन का 19.32 सकेड का रिकॉर्ड तोड़ दिया।

दिन रात संघर्ष और मेहनत कर वे लगातार चैंपियनशिप जीतते चले जा रहे थे और ओलिंपिक खेलो के साथ-साथ बहुत से स्थानिक खेलो में भी उन्होंने जीत दर्ज की। जिनमे मुख्य रूप से बीजिंग, लन्दन और रिओ के ओलिंपिक खेलो की जीत और बर्लिन, डेगू, मास्को और बीजिंग की IAAF वर्ल्ड टी & एफ चैंपियनशिप भी शामिल है। Usain Bolt Biography in Hindi

दौड़ में उनकी उपलब्धियों के कारण मीडिया की ओर से उन्हें “लाइटनिंग बोल्ट” का उपनाम मिला। हालाँकि उनका करियर इतना आसान भी नही रहा, कई बार चोटों ने भी उनके मौको पर पानी पानी फेरा है। एक समय ऐसा भी आया, जब बोल्ट के जीवन में उनकी लोकप्रियता उनके लिए परेशानी का विषय बनने लगी थी। अब बोल्ट का ध्यान अपने एथलेटिक्स करियर से हटने लगा था। और वह मनचाहे फास्ट फूड और पार्टियों को वरीयता देने लगे थे। इसी बीच उनका प्रदर्शन काफी प्रभावित हुआ।

 
 
 
 
ओलंपिक में वर्ल्ड रिकॉर्ड (Usain Bolt World Record in Olympics) :

100 मीटर :

  • बोल्ट ने सबसे पहले न्यूयॉर्क में 2008 रिबॉक ग्रांड प्रिक्स (Reebok Grand Prix) में विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया जब उन्होंने 9.72 सेकंड का समय निकाला।
  • 2009 विश्व चैंपियनशिप में फिर से 2008 के ओलंपिक में अपने समय पर सुधार करते होए 9.58 सेकंड का समय निकाला।
  • 9.69 seconds: 2008 बीजिंग में ओलंपिक
  • 9.58 seconds: 2009 बर्लिन विश्व चैंपियनशिप
  • 9.63 seconds: 2012 लंदन में ओलंपिक

200 मीटर :

  • 2008 ओलंपिक्स में बोल्ट ने माइकल जॉनसन (Michael Johnson’s) का 12 वर्ष का रिकॉर्ड तोडा।
  • 19.19 seconds: 2009 बर्लिन में विश्व चैंपियनशिप (World Championships in Berlin)
  • 19.30 seconds: 2008 बीजिंग में ओलंपिक (Olympics in Beijing)
  • 19.32 seconds: 2012 लंदन में ओलंपिक (Olympics in London)
  • 19.40 seconds: 2011 डेगू में विश्व चैंपियनशिप (World Championships in Daegu)

विश्व चैंपियनशिप (Usain Bolt World Championship) :

  • 2009 में बर्लिन में 100m में Gold
  • 2009 में बर्लिन में 200m में Gold
  • 2009 में बेर्लिन में 4 × 100m Realy Gold
  • 2007 में ओसाका में 200m में Silver
  • 2007 में ओसाका में 4 × 100m Realy Gold

विश्व जूनियर चैम्पियनशिप (Usain Bolt World Junior Championship) :

  • 2002 में किंग्स्टन में 200m में Realy Silver
  • 2002 में किंग्स्टन में 4×400m Realy Silver

विश्व युवा चैम्पियनशिप (Usain Bolt World youth Championship) :

  • 2003 में शेरब्रूक में 200m Gold

विश्व एथलेटिक्स फाइनल (Usain Bolt World Athletics Final) :

  • 2009 में थेसालोनिकी में 200m Silver

उसैन बोल्ट की सफलता की सीड़ियाँ (Usain Bolt Success steps) :

2002 के विश्व जूनियर चैंपियनशिप में 200 मीटर में स्वर्ण पदक जीतकर उन्होंने एक अलग पहचान बनाई। बोल्ट कम उम्र में विश्व जूनियर चैम्पियन के खिताब जीतने वाले विजेता बन गए। बोल्ट ने 2003 के युवा विश्व चैम्पियनशीप में एक स्वर्ण पदक जीता। 200 मीटर को 20.40 सेकण्ड में पूरा किया, इस बीच बोल्ट अपने देश में काफी लोकप्रिय होते जा रहे थे। 2003 के सीजन में जूनियर स्पर्धाओं में बराबरी करने के कारण इन्हें आई.आई.ए.एफ राइजिंग स्टार अवार्ड प्रदान किया गया।

_

कहानी से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें…

Leave A Reply