The Amazing Facts

, / 2150 0

सुंदर पिचाई : सफलता की कहानी | Sundar Pichai Inspirational Story in Hindi

SHARE
Sundar Pichai
Sundar Pichai

 

सुंदर पिचाई : सफलता की कहानी (Sundar Pichai Inspirational Story in Hindi)

भारतीय मूल के सुंदर पिचाई को 10 अगस्त, 2015 को गूगल का सीईओ बनाया गया है। इसके पहले सुंदर पिचाई उस कंपनी में सीनियर वाइस प्रेसीडेंट थे। सुंदर पिचाई का वास्तविक नाम सुंदराजन पिचाई है, लेकिन वे सुंदर पिचाई के नाम से जाने जाते है।

 

( 1 ) सुंदर पिचाई ने शुरुआती पठाई के बाद अपना बैचलर की डिग्री खड़गपुर से ITI की थी। उन्होंने उस दौरान सिल्वर मेडल भी हासिल किया था। इसके बाद सुंदर ने अपनी MS की शिक्षा स्टैनडफोर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका से पूर्ण की थी। और अमेरिका के व्हार्टन यूनिवर्सिटी में से MBA की डिग्री हासिल की।

( 2 ) सुंदर पिचाई ने आर्थिक तंगी के चलते पैसे बचाने के लिए उन्होंने अपनी पुरानी चीजों का इस्तेमाल भी करना पड़ा था, लेकिन उन्होंने अपनी शिक्षा के साथ समझौता नहीं किया। वह PhD भी करना चाहते थे, लेकिन कुछ ख़राब परिस्थिति के चलते सुंदर ने प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर नौकरी भी करनी पड़ी।

( 3 ) इस कंपनी में काम करने के बाद 2004 में पिचाई ने गूगल ज्वाइन किया। गूगल में पिचाई का पहला प्रोजेक्ट बतौर प्रोडक्ट मैनेजमेंट यानि की गूगल के सर्च टूलबार को पहले से ज्यादा अच्छा बनाना और अन्य ब्रॉउजर के यूज़ कर्ताओ को गूगल पर लाना था। यह काम करने के वक्त पिचाई ने गूगल को एक प्रस्ताव दिया की उन्होंने खुदका एक ब्राउजर भी बनाना चाहिए। पिचाई का इस आइडिया से वह गूगल के संस्थापक लैरी पेज की नजरों में आये। और यहाँ से उनकी असली पहचान भी मिली। Sundar Pichai Biography in Hindi

( 4 ) सुंदर पिचाई को गूगल में कई मुख्य पद पर काम करने का मौका मिला सबसे पहले वह गूगल प्रोडक्ट के इनोवेशन ऑफिसर के पद पर काम किया। बाद में उन्होंने गूगल के एंड्रॉइड, क्रोम ब्राउज़र और अप्लीकेशन विभाग के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट भी रहे चुके है। इसके बाद पिचाई को गूगल में सीनियर प्रोडक्ट चीफ भी बनाये गए। 2008 में पिचाई के देखरेख में ही एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च की गई। और साथ साथ गूगल क्रोम ब्राउज़र भी उनकी देखरेख में लॉन्च किया गया।

( 5 ) सुंदर पिचाई के नेतृत्व में 2013 में जब क्रोम ब्राउज़र का सफल लॉन्चिंग हुआ उसके बाद एंड्रॉइड में गूगल का नाम विश्वभर में प्रख्यात हो गया साथ में पिचाई का नाम भी काफी चर्चास्पद हुआ। बाद में पिचाई के नेतृत्व में ही गूगल ड्राइव, जीमेल और गूगल वीडियो भी काफी लोकप्रियता मिली। Sundar Pichai Inspirational Story in Hindi

( 6 ) पिचाई के नेतृत्व में क्रोम ब्राउज़र और एंड्रॉइड एप्लीकशन द्वारा गूगल को बहोत हाई पर पहुंचा दिया। बाद में एंड्रॉइड विभाग भी पिचाई के पास आया और उन्होंने गूगल के सारे बिज़नेस को इतना आगे बढ़ाया की फ़िलहाल इनका मुकाबला कोई नहीं कर सकता। पिचाई के इस योगदान की वजह से ही गूगल और सैमसंग ने एंड्रॉइड में साझेदारी की। Sundar Pichai Inspirational Story in Hindi

( 7 ) जब पिचाई ने प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर गूगल में आये तब इंटरनेट यूजर्स के लिए रिसर्च करना काफी मुश्किल था, बाद में उन्होंने रिसर्च इतना ईजी कर दिया की कोई भी आसानी से कर सकते है साथ में जल्दी इन्स्टॉल भी किया जा सकता है। उन्होंने अन्य सॉफ्टवेर कंपनियों के साथ बेहतर संबंध बनाएं, इसलिए टूलबार को बेहतर और आसान बनाया। पिसाई की यह काबिलियत देखते उन्हें प्रोडक्ट मैनेजमेंट का डायरेक्टर बना दिया गया।

( 8 ) इसके बाद जब 2011 में लैरी पेज गूगल के चीफ एक्जेक्यूटिव ऑफिसर बने, तब उन्होंने पिचाई को प्रमोट करते हुए सीनियर वाइस प्रेसीडेंट बना दिया। इसके बाद उनकी सब सफलता के कारण Google ने उन्हें 10 अगस्त 2015 को कंपनी का चीफ एक्जेक्यूटिव (CEO) बना दिया। Sundar Pichai As Goole CEO

_

सुंदर पिचाई की सम्पूर्ण जीवनी

Leave A Reply